हस्तरेखायें जीवन के हर पहलू को बताते हैं ।।

हस्तरेखायें जीवन के हर पहलू को बताते हैं ।। Hastarekha Jivan Ke Har Pahalu ko Batate Hain.

हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz,

मित्रों, हस्त रेखा व्यक्ति के अतीत, वर्तमान और भविष्य जानने का एक प्राचीन विज्ञान है । नारद, वाल्मीकि, गर्ग, भृगु, पराशर, कश्यप, अत्रि, बृहस्पति, प्रहलाद, कात्यायन, वराहमिहिर आदि ऋषियों ने इस पर बहुत शोध किया है ।।

इसके बारे में स्कंद पुराण, भविष्य पुराण, बाल्मीकि रामायण, महाभारत, हस्तसंजीवनी आदि ग्रंथो में वर्णन है । ऐसा कहा जाता है, कि सबसे पहले समुद्र नामक ऋषि ने इसका व्यापक प्रचार-प्रसार किया, इसीलिए इसे सामुद्रिक शास्त्र के नाम से भी जाना जाने लगा ।।

हस्तरेखा विज्ञान बहुत ही प्राचीन विज्ञान है । किसी भी व्यक्ति के हाथ के गहन अध्ययन द्वारा उस व्यक्ति के भूत, भविष्य और वर्तमान तीनों कालों के बारे में आसानी से बताया जा सकता है ।।

astro classes, Astro Classes Silvassa, astro thinks, astro tips, astro totake, astro triks, astro Yoga

हस्तरेखा में उंगलियों का बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान होता है । उंगलियों के द्वारा व्यक्ति का पूरी तरह एक्स-रे किया जा सकता है ।।

उंगलियां छोटी-बड़ी, मोटी-पतली, टेढ़ी-मेढ़ी, गाँठ वाली तथा बिना गांठ वाली कई प्रकार की होती हैं । प्रत्येक उंगुली तीन भागों में बंटी होती है, जिन्हें पोर कहते हैं ।।

पहली उंगली को तर्जनी, दूसरी उंगली को मध्यमा, तीसरी उंगुली को अनामिका तथा चौथी उंगुली को कनिष्ठा कहा जाता है । ये उंगलियां क्रमशः बृहस्पति, शनि, सूर्य तथा बुध के पर्वतों पर आधारित होती हैं ।।

प्रत्येक उंगली की अलग-अलग परीक्षा की जाती है । जैसे लम्बाई के हिसाब से अधिक लम्बी उंगलियों वाला व्यक्ति दूसरे के काम में हस्तक्षेप अधिक करता है ।।

लम्बी और पतली उंगलियों वाला व्यक्ति चतुर तथा नीतिज्ञ होता है । छोटी उंगलियों वाला व्यक्ति अधिक समझदार होता है । बहुत छोटी उंगलियों वाला व्यक्ति सुस्त, स्वार्थी तथा क्रूर प्रवृति का होता है ।।

जिस व्यक्ति की पहली उंगली यानी अंगूठे के पास वाली उंगली बहुत बड़ी होती है, वह व्यक्ति तानाशाही अर्थात् लोगों पर अपनी बातें थोपने वाला होता है ।।

यदि उंगलियों को मिलाने पर तर्जनी और मध्यमा के बीच छेद हो तो व्यक्ति को 35 वर्ष की उम्र तक धन की कमी रहती है । यदि मध्यमा और अनामिका के बीच छिद्र हो तो व्यक्ति को जीवन के मध्य भाग में धन की कमी रहती है ।।

अनामिका और कनिष्का के बीच का छिद्र बुढ़ापे में निर्धनता का सूचक होता है । जिस व्यक्ति की कनिष्ठा उंगली छोटी तथा टेड़ी-मेड़ी हो तो वह व्यक्ति जल्दबाज तथा बेईमान होता है ।।

यदि उंगलियों के अग्र भाग नुकीले हों और उंगलियों में गांठ दिखाई न दे, तो व्यक्ति कला और साहित्य का प्रेमी तथा धार्मिक विचारों वाला होता है । परन्तु इनमें काम करने के क्षमता की कमी होती है ।।

astro classes, Astro Classes Silvassa, astro thinks, astro tips, astro totake, astro triks, astro Yoga

ज्योतिष के सभी पहलू पर विस्तृत समझाकर बताया गया बहुत सा हमारा विडियो हमारे  YouTube के चैनल पर देखें । इस लिंक पर क्लिक करके हमारे सभी विडियोज को देख सकते हैं – Click Here & Watch My YouTube Channel.

इस तरह की अन्य बहुत सारी जानकारियों, ज्योतिष के बहुत से लेख, टिप्स & ट्रिक्स पढने के लिये हमारे ब्लॉग एवं वेबसाइट पर जायें तथा हमारे फेसबुक पेज को अवश्य लाइक करें, प्लीज – My facebook Page.

वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।

संपर्क करें:- बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा ।।

WhatsAap & Call: +91 – 8690 522 111.
E-Mail :: astroclassess@gmail.com

Balaji Ved, Vastu & Astro center, Silvassa

Balaji Ved, Vastu & Astro center, Silvassa

कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने तथा वास्तु विजिटिंग के लिये अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें । पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं । ज्योतिष पढ़ने के लिये संपर्क करें - बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!